Har Bimari se Bachne ki Dua – Sugar, Bukhar, Ghabrahat ki Da in Hindi

हर बिमारी की दुआ ( Har Tarah ki Bimaari se Bachne ki Dua in Hindi)

शायद ही कोई मुस्लिम भाई और बहन हो जो स्वस्थ रहना ना चाहता हो लेकिन आज कल के जमाने में हर इंसान किसी ना किसी प्रकार की बिमारी से पीड़ित है| खुदा ही बिमारी देता है और खुदा ही बिमारी खत्म करने की ताकत रखता है, आज हम अपने इस लेख में आपको काफी saari बीमारियो से बचने की दुआओ ( Bimari se bachne ki dua ) के बारे में बताने वाले है| हालाँकि ऐसा नहीं है की इंसान दुआओ के सहारे बैठा रहे या केवल दवा का सेवन करता रहे और दुआ ना करें, पीड़ित मरीज को सही करने के लिए दुआ और दवा दोनों की जरुरत होती है|

अगर आपको किसी भी प्रकार की बिमारी ने परेशान कर रखा है तो एक बार दवा के साथ नीचे बताई जा रही दुआओ को जरूर पढ़ें, अल्लाह ताला के रहमो करम से बहुत जल्द आपकी बिमारी खत्म हो जाएगी और आप स्वस्थ हो जाएंगे|

Bimari se bachne ki dua

शुगर की दुआ हिंदी में (sugar ki dua in hindi)

आज के समय में शुगर की बिमारी बहुत ही आम हो गई है, शुगर की बिमारी ऐसी है जिसका परमानेंट इलाज नहीं है बस शुगर की बिमारी की दवा खाते रहिए आप ठीक रहेंगे| चलिए अब हम आपको शुगर की बिमारी की दुआ के बारे में बताते है, शुगर की दुआ कुरान मजीद के 15 वे पारे की सूरह बनी इस्राइल की आयत 80 पर बताई गई है और कुरान पाक की यह छोटी सी आयत शुगर की परेशानी को दूर करने में बहुत फायदेमंद साबित हो सकती है| कुछ इंसान इस दुआ को शुगर खत्म करने की दुआ भी कहते है, चलिए सबसे पहले हम आपको शुगर की दुआ बताते है उसके बाद इस दुआ को पड़ने का तरीका बताएंगे, शुगर की दुआ

“रब्बी अदखिलनी मुदखला सिदकि-यौ वा अखरिजनी मुखरजा सिदकि-यौ वज-अल्ली मिल-लदुनका सुल्ता-नन नसीरा

शुगर की दुआ पढ़ने का तरीका (sugar ki dua padne ka tarika) 

अगर आप शुगर की परेशानी से छुटकारा पाना चाहते है तो ऊपर बताई गई शुगर की दुआ को सुबह, दोपहर और शाम तीनो वक़्त पढ़ना है| शुगर को खत्म करने की दुआ पढ़ने का तरीका यह है की सबसे पहले एक गिलास पानी लेकर पहले तीन बार दरूद शरीफ पढ़ लें फिर उसके बाद 7 बार शुगर की दुआ पढ़ लें| फिर इस दम किए हुए पानी को पी लें, इसी तरह आपको दोपहर और शाम को दम करके पानी लें और दवा पर भी शुगर की दुआ पढ़कर दम कर लें, इंशाल्लाह शुगर की दुआ से दम हुआ पानी और दवा पर दुआ का दम करके सेवन करने से बहुत जल्द फायदा मिलता है|

घबराहट कम करने की दुआ (ghabrahat kam karne ki dua) 

अगर आपको घबराहट की परेशानी हो रही है और आप घबराहट कम करने की दुआ सर्च कर रहे है तो अब हम आपको घबराहट की दुआ या घबराहट कम करने की दुआ के बारे में बताने वाले है, नीचे हम आपको घबराहट की दुआ पढ़ने का तरीका और घबराहट की दुआ के बारे में बता रहे है घबराहट की दुआ इन हिंदी

अला बिजिक्रिल-लाही ततमा इन्नुल कुलूब

घबराहट की दुआ पढ़ने का तरीका (ghabrahat ki dua padne ka tarika) 

घबराहट की दुआ पढ़ना बेहद आसान है, पांचो वक़्त की नमाज अदा करना सभी मुस्लिम भाई और बहन का फर्ज है| बस घबराहट की समस्या से छुटकारा पाने के लिए आपको बस इतना करना है की जब भी आप नमाज पढ़ें तो नमाज के बाद अपना दाएं हाथ दिल पर रखकर 11 बार ऊपर बताई गई घबराहट दूर करने की दुआ को पढ़ें| एक बात का ख्याल रखें की घबराहट की दुआ हर नमाज के बाद पढ़नी है और आपको नमाज के बाद उठना नहीं है, घबराहट की दुआ रोजाना पढ़ने से बहुत जल्द आपको राहत मिलती है|

बुखार की दुआ हिंदी में (bukhar ki dua in hindi )

बुखार की परेशानी कभी भी किसी भी इंसान के साथ हो सकती है, अगर आपको या आपके परिवार के किसी भी सदस्य को बुखार की समस्या हो रही है तो अब हम आपको एक ऐसी दुआ के बारे में बताने जा रहे है जिसे पढ़ने से बहुत जल्द बुखार उतर जाता है| बुखार की दुआ नीचे दी जा रही है

बिसमिल्लाहिल कबीरी ,  अऊज़ु बिल्लाहिल अज़ीमि,  मिन शर्रि कुल्ली अर्किन ना आरिन व मिन शर्रि हर्रिन नार

बुखार की दुआ पढ़ने का तरीका ( bukhar ki dua padne ka tarika) 

अगर आपको सर्दी बुखार की समस्या है या आपके परिवार के किसी भी सदस्य को बुखार है तो ऊपर बताई गई दुआ को पढ़कर मरीज के ऊपर दम करे और इसके साथ साथ पानी पर भी bukhar ki dua दम करके पीड़ित को पिलाने से बहुत जल्द बुखार की समस्या से राहत मिलेगी|

सर दर्द दूर करने की दुआ हिंदी में ( sar dard ki dua in hindi )

आज के जमाने में सर दर्द एक ऐसी परेशानी है जिसका सामना अधिकतर महिला या पुरुष कर रहे है, हालाँकि सर दर्द होने के कारण काफी सारे होते है| अगर आपके सर में दर्द की समस्या अधिक काम करने की वजह से या किसी मानसिक परेशानी की वजह से हो रहा है या किसी अन्य परेशानी की वजह से सर में दर्द होने पर अधिकतर इंसान सर मे दर्द की परेशानी से छुटकारा पाने के लिए पैन किलर ले लेते है| लगातार पेन किलर लेने से हमारे शरीर को कई प्रकार के नुक्सान हो सकते है इसीलिए पेन किलर का सेवन करने से बचें, आज हम आपको एक ऐसी दुआ बताने वाले है जिसे पढ़ने से आपका दिर दर्द गायब हो सकता है| सर दर्द होने पर नीचे बताई जा रही sar ke dard ki dua पढ़ने से बहुत जल्द आराम मिलता है

अऊज़ु बिइज़्जतिल् लाही व कुदरतिही मिन शर्रि मा अजिदु व उ-हाज़िरु

सर में दर्द की दुआ पढ़ने का तरीका (sar dard ki dua padne ka tarika)

अगर आपके सर में दर्द हो रहा है तो सबसे पहले सर में जिस जगह दर्द हो रहा है सबसे पहले उस जगह पर हाथ रख लें, फिर तीन बार बिस्मिल्लाह हीर रहमान नीर रहीम पद लें उसके बाद ऊपर बताई गई सर दर्द की दुआ को सात बार पढ़ने से से बहुत जल्द सर दर्द में आराम मिलता है|

पेट दर्द की दुआ हिंदी में (pet dard ki dua in hindi )

अगर आपके पेट में दर्द की परेशानी हो रही है तो पेट दर्द से छुटकारा पाने के लिए आप पेट दर्द की दुआ का सहारा भी ले सकते है| हालाँकि पेट में दर्द होने के कारण काफी सारे होते है, कई बार कुछ गलत खाने की वजह से, गैस या कब्ज की वजह से भी दर्द हो सकता है या कोई और कारण भी हो सकता है खैर कारण चाहे जो भी हो| अगर आप नीचे बताई जा रही पेट दर्द की दुआ पाक दिल से पढ़ने खुदा बहुत जल्द आपके पेट दर्द को सही कर देता है|

“अऊज़ु बिइज़्जतिल् लाही व कुदरतिही मिन शर्रि मा अजिदु व उ-हाज़िरु”

दिल की बीमारी की दुआ (dil ki bimaari se bachne ki dua in hindi) 

अगर आप किसी दिल से सम्बंधित किसी भी समस्या से पीड़ित है या आप अपने आपको दिल की बीमारियो से बचाना चाहते है तो हम आपको ऐसी दुआ के बारे में बताने जा रहे है जिसे पढ़ने से आप अपने दिल को बीमारियो से बचा सकते हो और अगर आपको पहले से दिल की बिमारी है तो इस दुआ से वो भी बहुत जल्द ठीक हो सकती है| दिल की बीमारी की दुआ नीचे दी गई है

या क़विय्युल क़ादिरुल मुक़्तदिरू क़व्विनी क़लबी

दिल की बिमारी की दुआ पढ़ने का तरीका (dil ki bimaari ki dua padne ka tarika) 

ऐसा नहीं है की ऊपर बताई गई दिल की बीमारी की दुआ केवल एक बार पढ़ने से दिल से सम्बंधित बिमारी दूर हो जाती है, दिल की बिमारी को दूर भगाने के लिए या दिल को स्वस्थ रखने के लिए आपको ऊपर बताई गई दुआ रोजाना पढ़नी होगी| दिल की बिमारी की दुआ पढ़ने के लिए सबसे पहले आपको हर फ़र्ज़ नमाज़ के बाद 3 बार दरूद शरीफ पड़ना है फिर उसके बाद  अपना सीधा हाथ दिल पर रखें और ऊपर बताई गई दुआ को 7 बार पढे, उसके बाद तीन बार दरूद शरीफ दोबारा पढ़ लें| इस दुआ को पढ़ने से आपका दिल बीमारियों से महफूज रहेगा|

हार्ट अटैक से बचने की दुआ हिंदी में (heart attack se bachne ki dua in hindi)

यह तो सभी को पता है की हार्ट अटैक एक जानलेवा परेशानी है, हार्ट अटक का नाम सुनते ही इंसान के मन में भय हो जाता है| हालाँकि हार्ट अटैक माइनर आता है तो इंसान को बचाना आसान हो जाता है| हार्ट अटेक ऐसी परेशानी है जिसमे थोड़ी सी लापरवाही इंसान की जान ले सकती है| चलिए अब हम आपको एक ऐसी दुआ के बारे में बताने जा रहे है जिसे पढ़ने से आप अपने आपको हार्ट अटैक की परेशानी से बचा सकते हो| इसीलिए इस दुआ को हार्ट अटैक की दुआ भी कहा जाता है, हार्ट अटैक की दुआ नीचे दी गई है

वलियर बिता अला क़ुलूबिकुम वा युसब्बिता बिहिल अक़दाम

हार्ट अटैक से बचने की दुआ पढ़ने का तरीका ( heart attack se bachne ki dua padne ka tarika)  

अगर आप अन्य आपको हार्ट अटैक की परेशानी से बचाना चाहते है तो तो सबसे पहले आपको एक या तीन बार दरूद शरीफ पढ़नी है, उसके बाद सात बार हार्ट अटैक से बचने की दुआ पढ़नी है, दुआ पढ़ने के बाद एक बार फिर एक या तीन बार दरूद शरीफ पढ़ना है| रोजाना सुबह और शाम बताए गए तरीके से हार्ट अटैक की दुआ पढ़ने से खुदा आपको हार्ट अटैक जैसी परेशानियो से से महफूज रखता है|

कैंसर की दुआ ( cancer ki dua in hindi)  

कैंसर को जानलेवा बिमारी के रूप में भी जाना जाता है, पहले के जमाने की बात करें तो कैंसर का इलाज उपलब्ध नहीं था| लेकिन अब समय बदल गया है आज के समय में कैंसर का इलाज उपलब्ध है लेकिन इसका इलाज करना सबके बस की बात नहीं है| हालाँकि कैंसर का पता अगर शुरूआती दौर में ही चल जाएं तो इलाज आसानी से किया जा सकता है लेकिन आज हम आपको एक ऐसी दुआ के बारे में बताने वाले है जिसके पढ़ने से आप अपने आपको कैंसर की बिमारी से बचा सकते है, कैंसर से बचने की दुआ इन हिंदी  : Cancer ki bimari se bachne ki dua in Hindi

अला यालमु मन खला क़ा वा हुवल लतीफुल खबीर

कैंसर की दुआ पढ़ने का तरीका (cancer ki dua padne ka tarika )

कैंसर की दुआ पीड़ित इंसान खुद भी पढ़ सकता है और अगर मरीज दुआ पढ़ने की स्थिति में नहीं है तो उसकी जगह कोई और भी इस दुआ को पढ सकता है| लेकिन एक बात का खास ख्याल रखें ऐसा नहीं है की आप केवल दुआ के सहारे बैठे रहें आपको दुआ के साथ साथ दवा भी खानी है| कैंसर की दुआ अगर मरीज पढ़ रहा है तो भी और अगर मरीज की जगह कोई और पढ़ रहा है तो भी सबसे पहले आपको वज़ू करना है| वजू करने के बाद आपको 11 बार दरूद शरीफ और 11 बार सूरह फातिहा पढ़ लें उसके बाद ऊपर बताई गई कैंसर की दुआ पढ़ लें फिर दोबारा से 11 बार सूरह फातिहा और 11 बार दुरूद शरीफ पढ़कर मरीज, दवा और पानी पर दम कर लें, उसके बाद पानी मरीज को पीला दें और दवा जैसे डॉक्टर ने बताई है उसी तरह से खाते रहें| इस दुआ को रोजाना पढ़ने से खुदा आपको कैंसर की बिमारी से महफूज रखता है|

कोरोना वायरस से हिफाज़त की दुआ Coronavirus Se Hifazat Ki Dua

शायद ही कोई इंसान जिसे कोरोना के बारे में ना पता हो, कोरोना ने दुनियाभर में कहर मचा दिया था| दुनिया भर में लाखो लोग कोरोना की वजह से मर गए थे| कोरोना का नाम सुनते ही लोगो के रोंगटे खड़े हो जाते है, लेकिन यह भी सभी अच्छी तरह से जानते खुदा से बढ़कर कोई नहीं इसीलिए आज हम आपको कोरोना से बचने की दुआ के बारे में बता रहे है, कोरोना से बचने की दुआ ( Corona ki bimari se bachne ki dua ) नीचे दी जा रही है

अल्लाहुम्मा इन्नी अउजुबिक मीनल बरसी वल जुनूनी वल जुजामी वमीन सय्यिईल अस्काम

कोरोना से बचने की दुआ को पढ़ने का तरीका 

कोरोना से बचने की दुआ को पढ़ने के लिए कोई खास तरीका नहीं है बस जब भी आपको वक़्त मिले ऊपर बताई दुआ को पढ़ते रहे, इंशाल्लाह आप करना जैसी बीमारी से महफूज रहेंगे|

हर तरह की बीमारी से बचने की दुआ ( har tarah ki bimaari se bachne ki dua in hindi)

हर इंसान की चाहत होती है की वो स्वस्थ रहें, अपने आपको स्वस्थ रखने के लिए अलग अलग इंसान अलग अलग तरीका अपनाते है| लेकिन अधिकतर इंसानो को कोई ना कोई बिमारी लगी रहती है| चलिए आज हम आपको एक ऐसी दुआ के बारे में बताने जा रहे है जिसे पढ़ने से आप किसी भी बिमारी से बच सकते है| यह दुआ हर प्रकार की बिमारी से बचाने में मददगार होती है इसीलिए इस दुआ को हर तरह की बिमारी से बचने की दुआ ( har tarah ki bimaari se bachne ki dua in hindi) भी कहा जाता है| नीचे हम आपको हर बिमारी से बचने की दुआ बता रहे है

अल्लाहुम्मा आफीनी फी बदनी, अल्लाहुम्मा आफीनी फी समयी, अल्लाहुम्मा आफीनी फी बसरी, लाइलाहा इल्ला अन्ता

हम उम्मीद करते है की आपको हमारे लेख हर बिमारी की दुआ (bimari se bachne ki dua in hindi) में दी गई दुआएं पसंद आई होगी| हम चाहते है की आप हमारे इस पेज को अधिक से अधिक शेयर करें जिससे यह लेख ऐसे मुस्लिम भाई और बहन के पास पहुँच सके जो किसी भी बिमारी से परेशान है|

हर बीमारी से बचने के लिए हमें ऊपर बताई गई दुआओं को नियमित रूप से पढ़ना चाहिए। इन दुआओं को पढ़ने से हम अपने शरीर को स्वस्थ रखने में मदद कर सकते हैं। साथ ही, हमें स्वस्थ आहार और नियमित व्यायाम भी करना चाहिए। इन सब बातों का ध्यान रखकर हम अपने स्वास्थ्य को बेहतर बना सकते हैं और हर बीमारी से बच सकते हैं।

इसके अलावा, हम कुछ अन्य उपाय भी कर सकते हैं जो हमें हर बीमारी से बचने में मदद कर सकते हैं। इन उपायों में शामिल हैं:

सकारात्मक सोच रखना: सकारात्मक सोच हमारे इम्यून सिस्टम को मजबूत करने में मदद करती है, जिससे हम बीमारियों से बचने में सक्षम होते हैं।
पर्याप्त नींद लेना: पर्याप्त नींद लेने से हमारे शरीर को आराम मिलता है और वह बीमारियों से लड़ने में सक्षम होता है।
तनाव से बचना: तनाव हमारे शरीर को कमजोर बनाता है, जिससे हम बीमारियों के शिकार हो जाते हैं।

इन सब बातों का ध्यान रखकर हम अपने स्वास्थ्य को बेहतर बना सकते हैं और हर बीमारी से बच सकते हैं।

 

होम पेज यहाँ क्लिक करें

Also Read: 

Leave a Comment