Pareshani ki dua in hindi-परेशानी की दुआ

अगर आप परेशानी दुर करने की दुआ ( Pareshani Ki Dua ) ढूढ़ रहे है तो आपको हमारे पोस्ट में सारी बाते आसानी से मिल जाएगी। इस अमल को एक बार जरुर करे ! इन्शाह अल्लाह आपकी हर बड़ी से बड़ी तक़लीफ़, हर परेशानी दूर हो जायेगी ! यह एक छोटा सा अमल है. ज़िंदगी में हर किसी को कभी न कभी परेशानियों का सामना करना पड़ता है। ये परेशानियां छोटी-मोटी भी हो सकती हैं, जैसे कि किसी काम में नक़ाबियाबी, किसी की बीमारी, या किसी से झगड़ा। या फिर ये बड़ी भी हो सकती हैं, जैसे कि पैसो की परेशानी।

जब हम किसी परेशानी में होते हैं, तो हमें कुछ समझ नहीं आता बल्कि हम अलग अलग जरिया ढूढ़ते रहते है की इससे निजात कैसे मिले. लेकिन कभी कभी हम ज़यादा परेशान हो जाते हैं, और हमें लगता है कि हम इस परेशानी से नहीं निकल पाएंगे। ऐसे वक़्त पे हमें सबसे ज्यादा जरूरत होती है अल्लाह की मदद की हम अल्लाह से दुआ करते हैं कि वह हमारी परेशानी जल्द से जल्द दूर करे।

इस्लाम में परेशानी की दुआओं ( Pareshani Ki Dua ) की बहुत एहमियत है। अल्लाह ने हमें कई ऐसी दुआएं सिखाई हैं, जो परेशानियों को दूर करने में मदद करती हैं। तो आइये देखते है की वो दुआए कोन सी है.

Pareshani ki dua in hindi-परेशानी की दुआ

“अल्लाहहुम्मा सल्ली अला सैय्यदेना मोहम्मदिन सलातन तुहिल्लो बिहा उकुदती वतुफ़र्रिज बिहा कुरबती वतुकदी बिहा हाजति”

परेशानी की कुछ और दुआएं भी है जो क़ुरान के पारो में मौजूद है.

सूरह अल-फ़ातिहा
सूरह अल-फ़ातिहा कुरान की पहली सूरह है। यह दुआ हर परेशानी को दूर करने के लिए बहुत फायदेमंद है।

सूरह अल-बख़राह, आयत 201
“अल्लाह उस पर रहम करता है जो दुसरो पे रहम करता है।”

सूरह अल-इमरान, आयत 200
“अल्लाह उस पर रहम करता है जो अपने गुनाहों की माफ़ी मांगता है।”

सूरह अल-नूर, आयत 55
“अल्लाह उस पर रहम करता है जो नमाज पढ़ता है।”

सूरह अल-फलक
“अल्लाह उस पर रहम करता है जो सुबह उठकर कहता है, ‘अल्लाहुम्मा इन्नी अउज़ु बिका मिन शैरि मा सगिर्त, वमिन शैरि मा बाला, वमिन शैरि मिन युलाज़ि, वमिन शैरि हाज़िहिल लाज़ी बाला।'”

सूरह अन-नास
“अल्लाह उस पर रहम करता है जो रात को सोने से पहले कहता है, ‘अल्लाहुम्मा इन्नी अउज़ु बिका मिन अफ़वाहिशी, वमिन साइयि-आति अमाली, वमिन अज़ाबि जहन्नम, वमिन फ़ितनेतिल क़ियामत।'”

परेशानी की दुआ कैसे पढ़े?

परेशानी की दुआ को किसी भी वक़्त पढ़ा जा सकता है। लेकिन कुछ खास वक्त ऐसे हैं, जब दुआएं जल्दी कुबूल होती हैं। सुबह का वक्त दुआओं के लिए सबसे अच्छा वक्त माना जाता है।अगर कोई शख्स फजर की नमाज़ के बाद दुआ को पढ़े तो दुआ जल्दी क़ुबूल होती है और रात के वक़्त दुआ पढ़ी जाए तो भी दुआ जल्दी क़ुबूल होती है. हर नमाज़ के बाद दुआ पढ़ने से दुआएं बहुत जल्दी कुबूल होती हैं।

Pareshani ki dua in hindi-परेशानी की दुआ और उसका फायदा –

परेशानी की दुआ को ईमानदारी और दिल से मांगनी चाहिए। दुआ करते समय हमें यह याद रखना चाहिए कि अल्लाह ही हमारी मदद करने वाला है।

परेशानी की दुआ करने से हमें कई फायदे मिलते है जो यह है-

  • हमारी परेशानी जल्द से जल्द दूर हो जाती है।
  • हमें अल्लाह की रहमत मिलती है।

परेशानी की दुआ हमारे लिए एक बहुत ही खास दुआ है। जब भी हम किसी परेशानी में हों तो (Pareshani ki dua in hindi) परेशानी की दुआ को पढ़ लेने से अल्लाह हमारी दुआओं को सुनता है और हमारी परेशानी दूर करता है.

Also Read: 

Leave a Comment