Surah Feel in Hindi – Alam Tara Kaif ki Surah

Surah Feel in Hindi – Alam Tara Kaif ki Surah

कुरान की 105वीं सूरह, सूरा फील, जिसे सूरा अल-फिल (Alam Tara Kaif ki Sureh) के नाम से भी जाना जाता है, एक छोटी लेकिन बहुत ही अहम सूरह है। इसमें एक अद्भुत घटना का वर्णन है जिसमें अल्लाह ने अपने घर, काबा की रक्षा के लिए हाथियों की एक विशाल सेना को ख़त्म कर दिया था। यह सूरा (Surah Feel in Hindi) हमें अल्लाह की ताक़त और उसके वादों की पूर्ति की याद दिलाती है।

Surah Feel in Hindi (Alam Tara Kaif ki Surah) – सूरह फ़ील तर्जुमा हिन्दी में

बिस्मिल्ला-हिर्रहमा-निर्रहीम

1. अलम तरा कैफा फअला रब्बुका बि अस हाबिल फील

क्या तुमने नहीं देखा कि तुम्हारे अल्लाह ने हाथी के साथियों के साथ कैसा व्यवहार किया

2. अलम यज अल कैदहूम फ़ी तजलील

क्या उसने उनकी चाल को नाकाम नहीं किया

3. व अरसला अलैहिम तैरन अबाबील

और उन पर पक्षियों (अबाबील) को झुंडों में भेजा,

4. तरमीहीम बि हिजारतिम मिन सिज्जील

जो उन पर मिटटी की कंकरियां फेंक रहे थे

5. फजा अलहुम का अस्फिम माकूल

और उन्हें खाए हुए भूसे की तरह बना दिया

Surah Feel in English

Bismilla Hir Rahma Nir Rahaeem

1. Alam Tara Kaifa Fa Ala Rabbuka Bi Ashabil Feel

2. Alam Yaj Al Kaydahum Fi Tazleel

3. Wa Arsala Alaihim Tayran Ababeel

4. Tarmee Him Bihija Ratim Min Sijjeel

5. Fa Ja Alahum Ka Asfim Makool

Also Read: Surah Juma in Hindi

Surah Feel in Hindi Video – Link

सूरा फील की घटना – Surah Feel ka Waqiya

सूरा फील की घटना यमन के एक ईसाई राजा अब्राह के शासनकाल के दौरान हुई थी। अब्राह ने अपनी ताक़त दिखाने के लिए एक बहुत ही बड़े चर्च का निर्माण किया था और वह चाहता था कि लोग उस चर्च की इबादत करें। काबा को ख़त्म करने और अपनी ताक़त को दिखने के लिए, अब्राह ने एक बड़ी फौज तैयार की जिसमें हाथियों का एक झुंड भी शामिल था और उसको काबे पर कब्ज़े के लये भेजा था। उसी वक़्त सौराह फील नाज़िल हुई थी।

जब अब्राह की सेना मक्का के पास पहुँची, तो अल्लाह ने उन पर पक्षियों का एक झुंड भेजा, जिन्होंने उन पर पत्थरों की बारिश की। पक्षियों के हमले से अब्राह की सेना बुरी तरह से हार गई और अब्राह खुद गंभीर रूप से घायल हो गया। कुछ ही समय बाद, अब्राह की मौत हो गई और उसकी फौज के बाकी लोग वापस यमन भाग गए।

Also Read: Surah Ad Duha in Hindi

 सूरेह फील का उद्देश्य – Surah Feel in Hindi ka Purpose

सूरेह फील का उद्देश्य कई गुना है। यह सूरह हमें निम्नलिखित सबक सिखाती है:

  • अल्लाह सबसे ताक़तवर है और उसकी ताक़त के सामने कोई भी ताकत नहीं टिक सकती।
  • अल्लाह अपने सच्चे बंदों की हिफाज़त करता हाउ और अपने दुश्मनों को ख़त्म कर देता है ।
  • सूरत फील हमें यह भी याद दिलाती है कि अल्लाह हमेशा अपने बंदों के साथ है और उनकी हिफाज़त के लिए हमेशा तैयार है। हमें किसी भी हालत में अल्लाह पर भरोसा नहीं खोना चाहिए और उसपर हर हाल में भरोसा रखना चाहिए।

सूरह फील की अहमियत – Surah Feel ki Ahmiyat

सूरत फील (Surah Feel in Hindi) की अहमियत की कोई हद नहीं है। यह सूरह हमें अल्लाह की असीम ताक़त का अनुभव कराती है और हमें उसकी रहमदिली और मेहरबानियों का एहसास दिलाती है। यह सूरह (Alam Tara Kaif ki Surah) हमें मुश्किल समय में भी अल्लाह पर भरोसा रखने की सीख देती है और हमें सिखाती है कि अल्लाह की ताक़त के सामने कोई भी ताकत नहीं टिक सकती।

सूरेह फील का पढ़ना हर मुसलमान के लिए एक सुन्नत है। यह सूरह छोटी है और इसे आसानी से याद किया जा सकता है। सूरह फील को पढ़ने से अल्लाह की ताक़त और मेहरबानियों की याद आती है और हमें ज़िन्दगी की मुश्किलों का सामना करने की ताकत देता है

मैं आशा करती हूं कि यह ब्लॉग पोस्ट आपको Surah Feel in Hindi और उसकी अहमियत , तर्जुमे पसंद आया होगा। अगर आपका कोई भी सवाल है तो please कमेंट करें।

Also Read: 

Leave a Comment