मेरे प्रिय मित्र पर हिंदी में निबंध – Essay on My Best Friend in Hindi

ज़िन्दगी के इस सफर में हम कई पग, कई मोड़ पार करते है। जिसमे कई लोग आते है और कई लोग चले जाते है। पर कुछ ही चेहरे ऐसे होते है जो हमारे मन के कैनवास में बस जाते है और मिटते नहीं है। कई चेहरे ऐसे भी होते है हमेशा दोस्ती निभाए रहते है वही एक अच्छे और सच्चे दोस्त बन पाते है। दोस्त बनाना भी एककाला है ज़रूरी नहीं चुटकी हर इंसान को अच्छे दोस्त मिल जाए इस लिए जब भी दोस्त बनाए अच्छे दोस्त बनाए ताकि वोआपको अच्छी राए और सलाह दे जो आपके भविष्य में काम आए।

‘मेरा प्रिय मित्र’ (Essay on My Best Friend in Hindi) इस पोस्ट में हमने छात्रों के लिए दोस्ती पे निबंध लिखने के लिए कुछ खास टिप्स दिए है। जिसकी मदद से छात्र अपने स्कूल प्रोजेक्ट में लिख सकते है। “Essay On My Best Friend in Hindi” एक ऐसा topic जो हर किसी की ज़िन्दगी में ज़रूर आता है। इस लिए यह पोस्ट उन लोगोके लिए है जिनको हिंदी में निबंध लिखने में परेशानी होती है। हमने अपने इस निबंध में बहुत ही आसान ज़बान में पोस्ट को लिखा है जो पढ़ने और समझने में जल्दी आ जाए।

दोस्त तो भगवन का रूप होते है जो हर पड़ाव पे हमारा साथ देते है। यह कहावत तो आप ने सुनी ही होगी “अच्छे दोस्त दुनिया की सबसे बड़ी दौलत होते है” माता-पिता ही हमारी ज़िन्दगी के सबसे पहले मित्र होते है। जो हमें हमेशा सही रास्ते पे चलने की सिख दिखाते है और अच्छे दोस्त बनाने की सलाह भी देते है। जब अच्छे दोस्त बनाने का वक़्त आता है तो हमें उस वक़्त तो सब अच्छे लगते है लेकिन अच्छा दोस्त वही होता जो हमारे ज़िन्दगी के उतार चढ़ाओ में साथ देता है। अच्छा दोस्त वही है जिससे हम अपने सुख और दुःख को शेयर कर सकते है और जो हमारी ज़िन्दगी में हर कदम पर प्रेरित करता है। और हर कदम पर साथ देता है।

मेरे प्रिय मित्र पर हिंदी में निबंध (Essay on My Best Friend in Hindi) :

दोस्ती की परिभाषा क्या है?

दोस्त और मित्र उसे कहते जो परिवार के अलावा ऐसा व्यक्ति हो जिससे हम अपनी बातो को साझा कर सके। जो हमारे हर सुख दुःख में खड़ा रहे और हर परिस्तिथि में कंधे से कन्धा मिला के चले। दोस्त दुनिया का एक अनमोल खज़ाना होता है। हम उसेअपने दिल की सारी बाते कर सकते है जो हमारे सुख और दुःख में हमेशां कंधे से कन्धा मिला के खड़ा रहे। दोस्ती चाहे लड़के से हो या लड़की से दोस्त वोही है जो मुसीबत में काम आए। एक इनसान के कई दोस्त होते है जीने ग्रुप फ्रेंड के नाम सेजाना जाता है। इसमें हर तरह के दोस्त होतेहै कोईज्यादा करीबी होता है जिसे क्लोज फ्रेंड कहते हैतो कोई काम करीबी होता है। आज कल bff का बहुत चलन है। जिसे हम अपनी ज़बान मे खास दोस्त या “best फ्रेंड” कह सकते है। एक अच्छे दोस्त अच्छे संगत की नियत को बताता है।

essay on my best friend

Essay on My Best Friend in Hindi in 500 Words

प्रस्तावना (Introduction) :

मेरा नाम सुनीता है और मेरा प्रिय साथी अनिल है। हम दोनो 5वी क्लास में पढ़ते है। हमारी क्लास में कई विद्यार्थी है लेकिन इन सब में मैं अनिल को अपना प्रिय दोस्त बनाई हूँ क्युकी हम दोनों के विचार बिलकुल एक जैसे है। अनिल काफी होशियार होने के साथ साथ बहुत ही मेहनती है। सारे अध्यापक इसकी प्रशंसा भी करते है। हमारी दोस्ती की एक खूबसूरत कहानी भी है। जिसे बताने में मुझे बहुत ख़ुशी होती है, और यह हसी का राज़दार भी है। अनिल एक अच्छे परिवार से सम्बन्ध रखता है। उसके पिता सरकारी स्कूल में अध्यापक है और माताजी भी अध्यापिका है।

हमारी दोस्ती की कहानी और अच्छे मित्र के गुण :

अनिल और मेरी दोस्ती की कहानी ज़िन्दगी का एक ख़ूबसूरत पहलू है। हम क्लास नर्सरी से साथ में है। हमारा एडमिशन एक साथ हुआ था और हम दोनों एक ही मोहल्ले के रहने वाले भी है। अनिल से दोस्ती करके मुझे बहुत अच्छा लगा क्युकी अनिल आज भी मेरी हर मोड़ पे मेरा साथ निभाता है। आज भी मुझे पढ़ाई करने में कही भी परेशानी होती है तो मैं उसकी मदद ले लेती हु। अनिल में अच्छे मित्र होने के सारे गुड़ मिलते है। अनिल के मदद के बिना मेरी पढाई अधूरी रहती है। हम पढाई के साथ साथ चुटकुले, हसी- ठहाके के साथ सारे स्ट्रेस को भुला देता है। अनिल मेरा वो मित्र है जो हमेशा मेरा हौसला बढ़ाता है।

Essay on My Best Friend in Hindi- दोस्त एक मुश्किलों का हथियार

अनिल मेरा सिर्फ प्रिय मित्र नहीं बल्कि मेरे हर मुश्किलों में साथ देने वाला अच्छा दोस्त भी है। जब भी मुझे पढाई में मुश्किलें आई उसने हर परेशानियों में मेरा कंधे से कन्धा मिला के खड़ा रहा। स्कूल के होमवर्क से लेकर प्रोजेक्ट बनाने में अनिल मेरा पूरा साथ देता है। और हर चुनौती को को जितने लायक बना देता है। इसी लिए उसके साथ हर समस्या छोटी लगती है।

मेरा दोस्त ज़िन्दगी का एक अनमोल खजाना है :

अनिल मेरे लिए किसी अनमोल ख़ज़ाने से कम नहीं है। मेरा परिवार भी उसकी बहुत प्रशंसा करता है। माँ-बाप की यही सिख रहती है की ज़िन्दगी में एक अच्छे मित्र का साथ बहुत ज़रूरी होता है। अनिल एक आज्ञाकारी विद्यार्थी होने के साथ साथ एक आज्ञाकारी पुत्र भी है। उसके अंदर बड़ो के लिए सम्म्मान और आदर हमेशा से रहता है इस लिए उसे सब संस्कारी लड़का भी कहते है। उसके जैसा दोस्त बहुत सौभाग्य से मिलता है। मैं ज़िन्दगी भर इस दोस्ती को सजा के रखूगी।

निष्कर्ष :

अनिल मेरे ज़िन्दगी का अनंत गीत है। वो कभी भी अपना समय बर्बाद नहीं करता। वह हमेशा समय पे विद्यालय आता है और कभी भी नागा नहीं करता है। इससे यही प्रेरणा मिलती है की अच्छे दोस्त हमेशा अच्छी राय देते है। दोस्ती एक ऐसी राग है जिसको गाने के लिए किसी लुग़त यानि शब्दकोश की ज़रूरत नहीं पड़ती। भगवान से भी यही आशा करती हु की हमारी दोस्ती इसी तरहा बानी रहे और हम एक दूसरे की इसी तरह सदैव सहायता करते रहे।

मेरे प्रिये मित्र पर निबंध 200 शब्दों में – (Essay on My Best Friend in Hindi 200 words):

हर एक के ज़िन्दगी में एक सच्चा साथी ज़रूर होता है। ज़िन्दगी में बहुत से दोस्त आटे और चले जाते है लेकिन सच्चा और सही दोस्त वही है जो ज़िन्दगी भर आपकेसाथ खड़ा रहे, आपके अच्छे और बुरे वक़्त में आपका साथ कभी न छोड़े, ऐसी ही दोस्त अनिल नाम का मेरी ज़िनदगी में आया है जो मुझे हर अच्छे और बुरे के बबआरे में समझाता है और मुझे पढाई करने में सहायता करता है। अनिल मेरे ही क्लास में पढता है हम शुरू से एक साथ बैठते है और एक ही साथ पढाई भी करते है। हम दोनों के घर भी एक ही मोहल्ले में है। अनिल बहुत ही समझधार लड़का है। क्लास में अच्छे नंबर भी लाता है। मेरे परिवार के लोग भी अनिल को बहुत बुद्धीमान छात्र मानते है इस लिए मैं भी अनिल के साथ अपने प्रोजेक्ट और होम वर्क को साथ में ही करती हु। अनिल पढाई के साथ साथ हसी मज़ाक भी करता है, जिससे हम दोनों को पढ़ने में और मज़ा आता है। इस लिए हमारे गुज़ारे हुए सरे पल बहुत ही यादगार रहते है

5 Lines Essay on My Best Friend in Hindi :

  1. मेरा नाम सुनीता है मेरे प्रिये मित्र का नाम अनिल है।
  2. हम दोनो 5वी क्लास में पढ़ते है।
  3. अनिल पढाई में बहुत तेज़ है।
  4. अनिल सभी लोगो की मदद करता है।
  5. मुझे अपने मित्र पर गर्व है।

मेरे प्रिय मित्र पे 15 लाइन का निबंध -15 Lines Essay on My Best Friend in Hindi :

  1. मेरा नाम सुनीता है और मेरे प्रिय मित्र का नाम अनिल है।
  2. मैं और अनिल एक ही क्लास में पड़ते है।
  3. अनिल एक अच्छे परिवार से सम्बन्ध रखता है।
  4. अनिल अच्छा मित्र होने के साथ अच्छा विद्यार्थी भी है।
  5. अनिल मेरा सच्चा दोस्त है जो मेरे हर बुरे वक़्त पे काम आता है।
  6. अनिल पे मैं आंख बंद कर के भरोसा कर सकती हु।
  7. अनिल पढाई में बहुत तेज़ है और नियम को पालन करने वाला भी है।
  8. हम दोनों पढाई के साथ साथ खेलकूद की प्रतियोगिता में भी भाग लेते है।
  9. अनिल और मेरा घर एक ही मोहल्ले में पड़ता है। इसलिए हम दोनों एक साथ स्कूल जाते है।
  10. अनिल मेरा दोस्त ही नहीं बल्कि भाई भी है।
  11. हम दोनों की दोस्ती देख के सब सरहाना करते है।
  12. अनिल कॅमेरे घर वाले अपना बेटा मानते है।
  13. हम दोनों एक दूसरे के परिवार वालो को भी अच्छे से जानते है।
  14. हम दोनों पढाई के साथ साथ हसी मज़ाक भी करते है।
  15. भगवान से यही प्रार्थना है की हमारी इस दोस्ती को इसी तरह कायम रखे।

मेरा यह ब्लॉग (मेरा प्रिय मित्र) एक सोर्स है उनके लिए जिन्हे My Best Friend Nibandh in Hindi लिखना है। इस ब्लॉग पोस्ट के ज़रिये से अपनी दोस्ती के अनुभव को और भी खास बनाइये।

हमें उम्मीद है की यह पोस्ट “Essay on My Best Friend in Hindi” न सिर्फ पढ़ने वाले को दिल छुएगा बल्कि आपके मित्र के लिए भी एक खास उपहार होगा।

अन्य निबंध :

होली पर निबंध हिंदी में एपीजे अब्दुल कलाम पर निबंध
गाय पर निबंध हिंदी में लोहड़ी पर निबंध
स्वामी विवेकानंद पर निबंध गणतंत्र दिवस पर निबंध

Leave a Comment