एपीजे अब्दुल कलाम पर निबंध (Essay on Dr. APJ Abdul Kalam in Hindi)

डॉ. एपीजे अब्दुल कलाम का नाम पूरी दुनिया में मशहूर है। हर इंसान उनके नाम को जानता है और इन्हे पहचानता है। भारत के मिसाइल मैन के नाम से यह काफी प्रसिद्ध हुए है। विद्यार्थिर्यों को अक्सर स्कूल और कॉलेजेस में “एपीजे अब्दुल कलाम पर निबंध” लिखने को कहा जाता है। हमने (APJ Abdul Kalam Essay in Hindi) पे आपके लिए एक पोस्ट तैयार की है जिसकी मदद से छात्रों को इनकी ज़िन्दगी के बारे में काफी जानकारी मिलेगी। विद्यार्थियों को अक्सर परीक्षा में “मेरे प्रिये नेता” के बारे में लिखने को आ जाता है (Dr APJ Abdul Kalam par nibandh) एक महान नेता के साथ साथ एक बड़े वैज्ञानिक भी थे। इनके बारे में किसी भी वर्ग पे लिखा जा सकता है। विद्यार्थी हमारी इस पोस्ट के ज़रिये से  (Essay on Dr.APJ Abdul Kalam in Hindi) (Essay on APJ Abdul Kalam a Great Scientist) अपनी परीक्षा में आने वाले निबंध को सरलता से लिख सकते है। पूरी जानकारी के लिए मेरे पोस्ट को पूरा पढ़े।

essay on apj abdul kalam in hindi

एपीजे अब्दुल कलाम पर निबंध (Essay on Dr.APJ Abdul Kalam in Hindi) :

प्रस्तावना – जीवन संघर्ष (Abdul Kalam Essay in hindi)

भारत देश हमें कई सारे महान महा पुरुष दिए है। लेकिन कुछ ऐसे नाम भी है जो इतिहास के पन्नो में सुनहरे अक्षरों से लिखे जाते है ,जिनमे से एक नाम डॉ. एपीजे अब्दुल कलाम का आता है। अब्दुल कलाम का जन्म सन 15 अक्टूबर 1931 में तमिलनाडु के रामेश्वरम के धनुषकोड़ी गाँव में हुआ था। आपका पूरा नाम अब्दुल पक्किर ज़ैनुलआबेदीन अब्दुल कलाम था। अब्दुल बहुत बड़े परिवार का हिस्सा थे आपके 5 भाई और 5 बहने थी। अब्दुल कलाम का बचपन बहुत ही संघर्ष से भरा हुआ था। कलाम के पिता ज़ैनुलआबेदीन ज़्यादा पढ़े लिखे नहीं थे लेकिन खुले विचार वाले व्यक्ति थे। इस लिए कलाम को बचपन से ही काम करने की ज़रुरत पड गई। उनके पिता के पास ज़्यादा पैसे नहीं थे और परिवार बड़ा भी था इसलिए वो बचपन में अखबार बेचने का काम शुरू कर दिए थे। कलाम को बचपन से ही कला से बहुत प्रेम था। वो बचपन में पक्षियों को समुन्दर के पास उड़ता देखते थे तो उनके ज़ेहन में हवाई जहाज़ की तस्वीर उभरती थी, जिसके ज़रिये से उनके भविष्य का रास्ता आगे तय हो गया। और फिर रामेश्वरम से ग्रेजुएशन करने के बाद वो इसी रास्ते को चुनके मद्रास के एयरोस्पेस इंजीनियरिंग की पढ़ाई पूरी की।

कलाम की विज्ञान की ओर उड़ान – (Dr Apj Abdul Kalam nibandh)

कालम ने अपनी पढाई 5 साल की उम्र से ही कर दी थी। कलाम का सपना पायलट बनने का था। लेकिन 1955 में मद्रास से पढाई पूरी करने के बाद उन्होंने 1962 में भारतीय रक्षा अनुसंधान और (DRDO) में वैज्ञानिक के रूप में अपना सफर शुरू किया।

मिसाइलों के निर्माता है कलाम -(Dr Apj Abdul Kalam nibandh)

कलाम मिसाइल मैन के नाम से भी काफी प्रसिद्ध है। इस नाम के पीछे भी कलाम की बहुत मेहनत है। कलाम का पहला स्वदेशी यान एसएलवी -3 ने ISRO में बहुत महत्त्वपूण भूमिका निभाई थी। कलाम उन वैज्ञानिकों में से है जिन्होंने भारत को मिसाइल बनाने में बहुत मदद की है। जिस वजह से आज उन्हें “मिसाइल मैन” के नाम से भी जाना जाता है। इन्होने 18 जुलाई 1980 को श्रीहरिकोटा में रोहणी उपग्रह को लॉन्च किया। इस्सके बाद यह कई जगह विज्ञान के सलहकार के रूप में भी रहे। और अपनी इसी मेहनत से रजिस्थान में शक्ति-2 नामक परमाडु को सफल बनाया।

कलाम जनता के प्यारे राष्ट्रपति के रूप में-(Essay on Dr.APJ Abdul Kalam in Hindi)

कलाम का एक और उपनाम था “पीपुल्स प्रेजिडेंट” सन 2022 में भारत के 11वे राष्ट्रपति बनने के बाद भी इनके सवभाव में कोई भी फर्क नहीं आया। उन्होंने हमेशा से युवाओ को राष्ट्र निर्माण में ज़्यादा से ज़्यादा भूमिका निभाने के लिए प्रेरित किया। कलाम बच्चो से लेकर बूढ़ो तक को प्रेम करते थे। 2002 से लेकर 2007 तक राष्ट्रपति पद पे रहने के बाद भी उनके दरवाज़े हमेशा सबके लिए खुले रहते थे। वो हर किसी की फरियाद सुनते थे। उनके इसी प्रेम को देखते हुए राष्ट्र ने उनके जन्मदिन को ” Vidhyarthi Diwas” के नाम से घोषित कर दिया गया।

कलाम की विरासत :(Abdul Kalam Essay in hindi)

दुनिया को उड़ान देने की लौ दिखने वाले कलाम ने युवाओ के विकास के लिए बहुत काम किये जिन्हे कई पुरस्कार से नवाज़ा भी गया जिसमे से भारत रतन,पदम् भूषण, पदम् विभूषण, डॉ. ऑफ़ साइंस, वीर सावरकर पुरस्कारो से प्रोत्साहित किया गया। आज भी कलाम की लिखी हुई किताबे है जो लोगो को सही राह दिखाने को प्रेरित करती है। जिनमे से कुछ किताबे है –

“माई जर्नी”
“इंडिया 2020”
“विंग्स ऑफ़ फायर”
“मिशन इंडियन”
“इन्स्पिरिंग थॉट्स”
“फेलियर इस द बेस्ट टीचर”
“स्पिरिट ऑफ़ इंडिया”
“हम होंगे कामियाब”

निधन-(Essay on Dr.APJ Abdul Kalam in Hindi)

डॉ. एपीजे अब्दुल कलाम 27 जुलाई 2015 को शाम के वक़्त आई आईटी, गुवाहाटी में कारिक्रम के दौरान लेक्चर देते वक़्त दिल का दौरा पड़ने से देहांत हो गया। उन्हें हॉस्पिटल ले जाया गया लेकिन कार्डियक अटैक होने की वजह से 2 घंटे में निधन हो गया।भारत को सदा एपीजे अब्दुल कलाम पे गर्व रहेगा। वो भारतीयों के जीवन में “जनता के राष्ट्रपति” और ” भारत के “मिसाइल मैन” के रूप में हमेशा याद किये जाएगे।

Essay on Dr.APJ Abdul Kalam in Hindi in 200 Words :

डॉ. एपीजे अब्दुल कलाम पे निबंध 200 शब्दों में :

अब्दुल कलाम दुनिया के बहुत ही प्रसिध रहे है। इनका जन्म 15 अक्टूबर, 1931 में तनिलनाडु के मध्मवर्गीय परिवार में हुआ था। तमिलनाडु के एक छोटे से गावो धनुष्कोडी से ताल्लुक रखने के बाद भी इनके मन में हमेशा से देश के लिए कुछ बड़ा करने का सपना था। यह हमेशा से उचाईयो थे। गरीबी में भी कलाम ने बनने का सपना नहीं छोड़ा और समाचार पत्र बेच के अपनी पढाई को बरकरार रखा। आर्थिक तंगी हमेशा से साथ साथ थी इस लिए पढाई के साथ साथ काम भी थे। 1955 में मद्रास से पढाई पूरी करने के बाद 1962 में (DRDO), भारतीय रक्षा अनुसन्धान में वैज्ञानिक के रूप में सफर की शुरूआत की।
कलाम को मिसाइल मैन के नाम से भी जाना जाने लगा। जिसके पीछे कलाम की मेहनत और उनका कठीन परिश्रम का साथ था। कलाम ने हमारे भारत को विज्ञान में कई बडे यंत्र भी दी जिनमे से- सबसे पहला स्वदेशी यान था एसएलवि-3, 1980 श्री हरिकोटा में रोहणी नाम की उपग्रह (satellite) को लांच किया था। कई जगह विज्ञान के सलाहकार भी रहे है।
कलाम ने कई तरह के किताबे भी लिखी है जो आज पुरे दुनिया में मशहूर है। कलाम का नाम आज भी पुरे दुनिया में लिया जाता है। इस लिए उनके जन्मदिवस को “विद्यार्थी दिवस ” के नाम से घोषित कर दिया गया।

एपीजे अब्दुल कलाम पर 20 लाइन का निबंध (20 lines essay on Essay on Dr.APJ Abdul Kalam in Hindi):

  1. डॉ एपीजे अब्दुल कलाम का पूरा नाम अब्दुल पक्किर ज़ैनुलआबेदीन अब्दुल कलाम है ।
  2. डॉ एपीजे अब्दुल कलाम जन्म सन 15 अक्टूबर 1931 में तमिलनाडु के रामेश्वरम के धनुषकोड़ी गाँव में हुआ था।
  3. डॉ एपीजे अब्दुल बहुत बड़े परिवार का हिस्सा थे आपके 5 भाई और 5 बहने थी
  4. डॉ एपीजे अब्दुल कलाम का बचपन संघर्ष से भरा हुआ था।
  5. डॉ एपीजे अब्दुल कलाम के पिता का नाम ज़ैनुलआबेदीन था।
  6. डॉ एपीजे अब्दुल कलाम की माता का नाम आशिअम्मा था।
  7. डॉ एपीजे अब्दुल कलाम को “मिसाइल मैन” के नाम से भी जाना जाता था।
  8. डॉ एपीजे अब्दुल कलाम भारत के प्रसिद्ध वैज्ञानिक रहे है।
  9. डॉ एपीजे अब्दुल कलाम ने रामेश्वरम से ग्रेजुएशन किया।
  10. डॉ एपीजे अब्दुल कलाम ने 1995 में मद्रास के एयरोस्पेस इंजीनियरिंग की पढ़ाई पूरी की।
  11. डॉ एपीजे अब्दुल कलाम ने 1962 में भारतीय रक्षा अनुसंधान और (DRDO) में वैज्ञानिक के रूप में अपना सफर शुरू किया।
  12. डॉ एपीजे अब्दुल कलाम का पहला स्वदेशी यान एसएलवी-3 ने ISRO में बहुत महत्त्वपूर्ड भूमिका निभाई थी।
  13. डॉ एपीजे अब्दुल कलाम ने 18 जुलाई 1980 को श्रीहरिकोटा में रोहणी उपग्रह को लॉन्च किया था।
  14. डॉ एपीजे अब्दुल कलाम 2002 में भारत की 11वे राष्ट्रपति बने।
  15. डॉ एपीजे अब्दुल कलाम 2002 से लेकर 2007 तक राष्ट्रपति पद पे रहने के बाद भी उनके दरवाज़े हमेशा सबके लिए खुले रहते थे।
  16. डॉ एपीजे अब्दुल कलाम के जन्मदिन को ” Vidhyarthi Diwas” के नाम से घोषित कर दिया गया।
  17. डॉ एपीजे अब्दुल कलाम को कई पुरस्कार से नवाज़ा भी गया जिसमे से भारत रतन,पदम् भूषण, पदम् विभूषण, डॉ. ऑफ़ साइंस, वीर सावरकर पुरस्कार।
  18. डॉ एपीजे अब्दुल कलाम लिखी हुई किताबे है- “माई जर्नी”,”इंडिया 2020″,”विंग्स ऑफ़ फायर”,”मिशन इंडियन”
  19. डॉ एपीजे अब्दुल कलाम का 27 जुलाई 2015 को गुवाहाटी में निधन हो गया था।
  20. डॉ एपीजे अब्दुल कलाम भारतीयों के जीवन में “जनता के राष्ट्रपति” और ” भारत के “मिसाइल मैन” के रूप में हमेशा याद किये जाएगे।

आशा है कि आपको हमारी (Essay on Dr. APJ Abdul Kalam in Hindi) पोस्ट पसंद आई होगी।

अन्य निबंध :

होली पर निबंध हिंदी में ईद उल फितर पर निबंध हिंदी में
मेरे प्रिय मित्र पर हिंदी में निबंध लोहड़ी पर निबंध
गाय पर निबंध हिंदी में गणतंत्र दिवस पर निबंध
स्वामी विवेकानंद पर निबंध प्रदूषण पर निबंध

Leave a Comment