रक्षाबंधन पर निबंध- Raksha Bandhan Essay in Hindi –

रक्षाबंधन का त्योहार हर साल अगस्त में मनाया जाता है। इसे राखी के नाम से भी जाना जाता है। रक्षाबंधन हिन्दुओ का त्योहार है। जो की भारत में बहुत धूमधाम से मनाया जाता है। इसे श्रावण पूर्णिमा के पावन अवसर पर मनाया जाता है। रक्षाबंधन भाई बहनो के अनोखे रिश्ते को दर्शाता है। रक्षाबंधन दो शब्दों से मिलके बना है “रक्षा” का अर्थ है सुरक्षा का और “बंधन” का अर्थ है “बांधना” इस दिन हर बहने
अपने भाइयो को राखी बांधके उनकी रक्षा करने का वचन लेती है। इस पवित्र त्योहार को गहराई से समझने इस पोस्ट (Raksha Bandhan Essay in Hindi ) को पूरा पढ़े। यह पोस्ट उनके लिए जो “राखी पर निबंध” लिखना चाहते है। इस ब्लॉग में हमने रक्षाबंधन का महत्त्व, रक्षा-बंधन कब है?, राखी एक वचन एक प्रेम, रक्षाबंधन सरकारी दृष्टिकोण, फौजी भाइयो के लिए राखी की भेट को detail से पेश किया है। उम्मीद है की आपको हमारी इस पोस्ट राखी पर निबंध पर (रक्षाबंधन पर निबंध- Raksha Bandhan Essay in Hindi) से लाभ होगा। इस दिन हर बहने अपने भाई को सदैव रक्षा करने का वादा करती है। इसलिए ज़रूरी की इस दिन के महत्त्व को समझना चाहिए। इस लिए हमने अपने इस ब्लॉग में (Essay On Rakhi in Hindi) बहुत ही सरल भाषा में लिखा है जिसकी मदद से आप राखी पर निबंध पे निबंध 200 से 400 शब्दों में आसानी से लिख सकते है।

रक्षाबंधन पर निबंध- Raksha Bandhan Essay in Hindi –

Raksha Bandhan Essay in Hindi

प्रस्तावना –

रक्षाबंधन उस रेशम के धागे को कहते है जो बहने अपनी भाइयो की कलाई में प्यार और मोहब्बत से बांधती है। रक्षाबंधन एक ऐसा त्योहार जो एक सादा धागा प्यार का धागा बना देती है। पुरे भारत में इस दिन का माहौल ही बिलकुल अलग होता है। क्युकी इस दिन हर भाइयो की कलाइयों में बहनो के प्यार का धागा बंधा हुआ मिलता है। कोई धागा लाल होता है, कोई पीला, बच्चे डोरेमान और कार्टून वाली राखी बंधवाते है। थाली की सजावट के साथ, पूजा- पाठ के साथ थाली में से टिका लगा के और मिठाईया खिला के भैय्या को यह अटूट रिश्ते की डोर बाँधी जाती है। यह परम्परा इनके रिश्तो को मज़बूत और यादगार बनाती है।

रक्षा-बंधन का इतिहास-

जिस तरह हर त्योहार का इतिहास प्राचीन समय से जुड़ा हुआ होता है वैसे ही रक्षाबंधन का त्योहार भी एक इतिहास से जुड़ा हुआ है। इसका इतिहास हिन्दू पुराण की कथाओं में भी मिलता है। इसको हर साल श्रावण पूर्णिमा के दिन मनाया जाता है। इस दिन को तीन उत्साह मनाया जाता है, नारियल पूर्णिमा, श्रावणी पूर्णिमा, और रक्षा बंधन। इस दिन हर बहने अपने भाइयो की कलाई में राखी बांधती है। कहा जाता है कि इस दिन देवराज इंद्रदमन की रक्षा के लिए रानी यमुना द्वारा राखी बांधने की प्रथा बहुत मशहूर है। अगर महाभारत की बात करे तो वहा भी श्री कृष्ण को चीर हरण के समय द्रौपदी ने राखी के सुरक्षा के धागे को बांधा था। तब से यह त्योहार की प्रथा चली आ रही है। महाभारत से अब तक रक्षाबंधन सिर्फ भाई – बहनो का त्योहार नहीं है बल्कि इस दिन शिष्य अपने गुरु को भी राखी बांध के इस अटूट रिश्ते को दर्शाते है। पुत्र-पिता को राखी बांध के अपने रिश्ते को और मज़बूती देते है। एक मित्र दूसरे मित्र को राखी बांध के अपने दोस्ती के रिश्ते को मज़बूत करते है। नन्द अपनी भाभियो को राखी बांध के अपने रिश्ते को एक नई पहचान देती है। इसी तरह से हर रिश्ता राखी के बंधन में बांध के एक अटूट रिश्ता हो जाता है।

यह रिश्ता सिर्फ दिखावे का नहीं होता बल्कि हर भाई, हर गुरु, हर भाभी, हर मित्र, हर पिता अपने रिश्ते को मज़बूत रखने का शपत लेता है और सुरक्षा के बंधन को मज़बूत रखता है। एक कहानी और भी मिलती है की रविंद्रनाथ टैगोर ने भी ब्रिटिश राज के दौरान बंगाल विभाजन को रोकने की बहुत कोशिश की थी और इसकी एकता और मित्रता को बढ़ाने के लिए राखी का सहारा लिया था। अलग अलग क्षेत्र में इस त्योहार को अलग अलग नामो से जाना जाता है। जैसे कही इसे कजरी पूर्णिमा कहा जाता है तो कही अवनि अवतार नाम से जाना जाता है। हिंदुस्तान के साथ साथ अलग अलग देशो में भी इसे बड़ी खूबसूरती के साथ मनाया जाता है। जो बहने अपने भैय्या के पास नहीं आ पाती वो विदेशो से भाईय्यो को पोस्ट के द्वारा राखी भेजती है।

राखी एक वचन एक प्रेम –

राखी का त्योहार में सिर्फ साधारण राखी नहीं बाँधी जाती बल्कि सोने -चांदी की बनी रखिया बहुत प्रसिद्ध होती है। हर बहनो की खवाइश होती है की वो अपने भाई को सोने -चांदी की बनी हुई रखियो को बांध कर इस अटूट बंधन को सदा मजबूत बनाए। बहने भाइयो की कलाई पे राखी बांध के पूजा की थाली में से तिलक लगा के मिठाई खिलाती है। और भाई अपनी बहनो को एक खास उपहार और सुरक्षा का वचन देते है। जिससे इनके रिश्ते और भी मज़बूत हो जाते है। जो बहनो की शादी हो जाती है वो इस दिन खास अपने माएके आती है और इस खास त्योहार को बड़ी ही उत्साह के साथ मानती है।

रक्षाबंधन सरकारी दृष्टिकोण –

रक्षाबन्धन एक पावन अवसर है। जो भाई बहन के प्यार को दर्शाता है। इस दिन सरकार द्वारा भी डाक सेवा पे छूट दी जाती है। इस दिन 10 रूपए वाले लिफ़ाफ़े की बिक्री ज़्यादा होती है क्युकी इस लिफाफे में बहने अपने भाइयो के लिए 4 से 5 राखियो को डाक के द्वारा भेज सकती है। बल्कि इससे छूटे वाले लिफाफे में सिर्फ एक ही राखी भेजी जा सकती है। इस दिन जेल में मौजूद भाइयो को बहनो से मिलने की छूट भी मिलती है। इस दिन खास तौर से महिलाओं के लिए बसे फ्री करदी जाती है और टिकट भी नहीं लिया जाता।

फौजी भाइयो के लिए राखी की भेट-

रक्षाबंधन के पवन अवसर पर देश की रक्षा कर रहे बहनो से दूर भाइयो को राखी भेजी जाती है। जिस से शहर के अंदर हमारे पुलिस भाई दिन रात अपना कर्तव् निभाते है उसी तरहा सिमा से दूर बॉर्डर पे अपनी जान की बाज़ी लगा के हमें सुरक्षा प्रदान करते है। जिसकी वजह से हम अपने घरो में आराम की ज़िन्दगी गुज़ार रहे है। इसे सोच के साथ एक संस्था “बी फॉर नेशन” ने झुक्की-झोपड़ियों में मौजूद बच्चियों से सेना के जवानो के लिए राखी बनवाई। इसमे हर धर्म की बच्चियों ने मिलके राखी को बनाया। रेशम के धागे में मोतियों को पिरोके, रिबन और अलग अलग सजावट की चीज़े लगा के राखी को करती है तैयार। इन राखियो को सबसे पहले लड़किया अपने भाइयो को बांधती है फिर पुलिस के जवानो को। फिर इस रखियो को स्पीड पोस्ट के द्वारा देश के जवानो को भेजा जाता है। “बी फॉर नेशन” संस्था ने झुग्गी-झोपड़ी में मौजूद बच्चों को बेहतरीन हुनर सिखाया ताकि आगे उनके काम आए। और साथ-साथ उन्हें कौशल प्रशिक्षण भी दी जाती है।

निष्कर्ष –

रक्षाबंधन का त्योहार बहनो की रक्षा से लेकर भाइयो से अटूट बंधन को दर्शाता है। राखी का त्योहार न सिर्फ रेशम के धागे को दर्शाता है बल्कि हमारी संस्कृति को भी दर्शाता है। आज यह त्योहार न सिर्फ बहनो को एक अलग पहचान देता है बल्कि उन लोगो के लिए यह सबक है जो लड़कियों को पेट में ही मार देते है। जिससे कई भाई और बहनो का रिश्ता हमेशा के लिए टूट जाता है। रक्षाबंधन दो लोगो के रिश्तो को जोड़ता है। और प्यार और मोहब्बत से रिश्ता बनाए रखने का सन्देश देता है। आइये इस पावन अवसर पर अपने भाई और बहनो को राखी की शुभ कामना देते है।

हमने अपने इस Raksha Bandhan Essay in Hindi पोस्ट में रक्षाबंधन पर निबंधऔर सर्वपल्ली राधाकृष्णन पर निबंध के बारे में सारी जानकारी देने की कोशिश की है उम्मीद है की आपको हमारी इस् पोस्ट से फाएदा पहुंचेगा और जानकारी पाने के लिए हमें कमेंट करे।

अन्य निबंध :

 

होली पर निबंध हिंदी में एपीजे अब्दुल कलाम पर निबंध
मेरे प्रिय मित्र पर हिंदी में निबंध लोहड़ी पर निबंध
स्वामी विवेकानंद पर निबंध गाय पर निबंध हिंदी में
शिक्षक दिवस और सर्वपल्ली राधाकृष्णन पर निबंध हिंदी दिवस पर निबंध

 

Leave a Comment